janan kya hai ( जनन क्या है पूरी जानकारी हिंदी में 2022)

दोस्तों आज हम बायोलॉजी का टॉपिक है जिससे कि आप अच्छी तरह से इसका परिचय ले सकते हैं बहुत ही यहां सब टॉपिक ट्वेल्थ के लिए जानकारी की चीज है तो इसे अच्छी तरह पर हैं और समझे|



जैसे कि आप जानना चाहते हैं कि जनन क्या है लैंगिक जनन क्या है और लैंगिक जनन क्या है अमीबा क्या है यह सब सारी जानकारी आपको नीचे दिए गए क्वेश्चन आंसर के अनुसार आप सभी की ओर फॉर्म पहुंचाना चाहेंगे जी हां दोस्तों अगर आप सभी जानना चाहते हैं कि जनन अलैंगिक जनन अमीबा दुखन विधि यह सब के बारे में हम पूरी आपको जानकारी देंगे जी हां दोस्तों


1. जनन से आप क्या समझते हैं?

उत्तर - एक अद्भुत जैव रासायनिक क्रिया जिसके अंतर्गत कोई भी  जीव अपने जैसा उत्पन्न करता है या उत्पन्न करने की क्षमता रखता है जिसके द्वारा जीव अपने अस्तित्व को कायम रख अपने जाति के संख्या में विधि करना जनन कहलाता है |

जनन की दो मूल प्रकार होती है

A. अलैंगिक जनन 

B. लैंगिक जनन


A. अलैंगिक जनन क्या है?

उत्तर- सरल आदि प्रकार का जन्म आवश्यकता होती उत्पन्न संतान हुवा हो बाय रुप से तथा अनुवांशिक रूप से अपने जनक के समान होते हैं ऐसे उत्पन्न होगा हो संतो को एक कर उन कहते हैं अलैंगिक जनन द्वारा तीव्र गति से जनसंपर्क किया जाता है और लैंगिक जनन मुख्य रूप से एक कोशिकीय अपकेंद्रीय तथा कम विकसित करने एवं पौधे में होते हैं पौधे में होने वाले बोलेंगे चरण को वर्गी जनन कहा जाता है अपकेंद्रीय तथा कम विकसित प्राणी एवं पौधे में होते हैं पौधे में होने वाले लैंगिक जनन को वर्गीज ने कहा जाता है|

> अलैंगिक जनन के प्रकार 

A. बाइनरी फिशन - सबसे सामान्य प्रकार का अलैंगिक जनन जिसके द्वारा एक कोशिकीय प्राणी जैसे अमीबा में सामान्य तरीके के माइक्रोसिस विधि द्वारा होता है |

जबकि जीवाणुओं में भी और लैंगिक जनन द्वारा होता है किंतु जीवाणुओं में यह क्रिया ए मिक्सेस द्वारा होता है|


अब हम अमीबा के बारे में जानते हैं

1. अमीबा में विखंडन 

उत्तर- अमीबा में विखंडन अनियमित प्रकार का होता है जिस अमीबा को इस विधि द्वारा जनन करना होता है सबसे पहले अपने चीजों को लिया विवाह का प्रचलन अंग है अपने सिरों पुड़िया को समेट लेता है इसके बाद इसका केंद्र मेट्रोसिस विधि द्वारा बर्तनों प्रारंभ हो जाता है जिससे इसका केंद्रक डंबल के समान दिखाई देने लगता है जो दो भागों में बांट कर दो केंद्रक में बदल जाता है केंद्रक के दो भागों में बांटते हैं इसका दो अमीबा का निर्माण कर लेता है|

A. Paramecium binary fission


Ans- पैरामीशियम मैं द्वी खंडन छैति जप्रकार का होता है इसमें दो केंद्रक पाए जाते हैं शुरू गुरु केंद्रक mot0 सूत्री विधि द्वारा जबकि लघु केंद्र मेट्रोसिस द्वरा बढ़ते हैं केंद्र के दो भागों में बढ़ते ही इसका कोशिका द्रव भी दो भागों में बांट कर दो पैरामीशियम का निर्माण कर लेता है

B. बहु विधि विखंडन

उत्तर - अमीबा संचार समय में इस प्रणाली द्वारा सक्रिय जेनरेशन सक्रिय हो जाता है।

अमीबा में दुईबाउ तापमान अब आमी बहू खंडन में तेज


2. अमीबा बहू खंडन क्या है?

 उत्तर - अमीबाबा में बैक्टीरिया की प्रबलता के साथ अमीबा में अमीबा में अमीबा की अगली कक्षा की क्रियाएँ प्रभावी होती हैं। इस तरह के खराब होने के लिए ठीक है, ठीक है, ठीक है शिष्ट गर्ल है।


विखंडन और बहुखंडन में अंतर अस्पष्ट 

विखंडन 

1 -: समय में होने वाले अलंगिक जन

2 . अमीबा का निर्माण है

3 . गजानन की क्रियाएँ कम उन्नत गति से


बहु विखंडन

1 . मौसम समय में होने वाले समय में असामाजिक जन

2 . इसे एक अमीबा से अनेक विवाह का निर्माण है

3 . यह क्रिया तेज गति से होती है


विशेष रूप से प्रबल होने के लिए प्रबल होने के कारण यह प्रबल होने के लिए प्रबल होता है।


1.अब मुकुलन के बारे में

उत्तर - प्रकार का और विषाणु शरीर के पूर्ण रूप से कार्य करता है जैसे कि पूर्ण रूप से सूक्ष्म रूप से उत्पन्न होता है जैसे कि मुकुलन मुकुलन का विस्तार होता है। −


2.बीजगणित क्या है?

 उत्तर- माइटोसिस द्वारा बना हुआ एक कोशिकीय रत्नों जो अंकुरित होकर नए जीवो का निर्माण करते हैं रचना एवं कार्यों के आधार पर यह निम्न प्रकार के होते हैं

A. जुस्पर ( चल बिजानु )  - ऐसा बिजानु मैं कोशिकाभ पाए जाते हैं जिसके कारण यह स्पोर गतिशील होते हैं इसीलिए इसे जु सपोर कहते हैं|

B. अचल बीजाणु   - ऐ भी बिजानु की तरह बनते हैं इसमें प्लेजर लियोन नहीं पाए जाते हैं जिसके कारण से यह गति मून नहीं होते हैं इसीलिए इसे अचल बीजानू कहते हैं|

C. अटल बिजानु-  प्रतिकूल समय में बनने वाला एक सपोर प्रतिकूल समय में अंकुरित होकर नए चीफ का निर्माण करते हैं|

D. कोंडिया-   पेनिसिलियम कवक में पाए जाने वाले अलैंगिक सपोर से अपनी वंश वृद्धि करने में सक्षम होती है यह जीश रचना पर बनते हैं उससे गोंडीफेयर कहते हैं इससे डोसा खाया निकलती है उससे सीटगमाटा कहते हैं उस पर गोल आकार एवं कौशिक यह रचना कुंडिया का विकास होता है जो परिपक्व होने के पश्चात फेल कर नए-नए पेइंसुलिन को जन्म देता है|


अब हम अदरक हल्दी यह सब के बारे में  जानेंगे


1.प्रकंद क्या है?

उत्तर-  यह भूमिगत रूपांतरित तनु जिसके द्वारा जिंजर अदरक हल्दी आदि अलैंगिक जनन करते हैं | 

यह दो प्रकार के होते हैं|

A. राइजोम

B. कोरम

तो हम कोरम के बारे में जानेंगे तो चलिए जानते हैं|

   - कार्य भूमिगत रूपांतरित ठोस एवं उबर होते हैं जिस पर प्रवेश तनाव तथा इंटरनोड ए पाए जाते हैं पूर्व संधि से नई कविताएं उत्पन्न होकर नए पौधे को जन्म देते हैं |

जैसे- आलू कछु

तो राइजोम उतना इंपॉर्टट नहीं है तो हम उसके बारे में नहीं बता सकते हैं क्योंकि वह इतना जरूरी नहीं है तो हम दूसरा नंबर में चलेंगे|

 2. कांद क्या है?

एक भूमिगत रूपांतरित तनु जिसके द्वारा आलू का एक जनन कर अपनी वंश वृद्धि करते हैं आलू में ओके पाए जाते हैं जो गड्ढे के जो रस्सी से नई कालिकाएं उत्पन्न होती है|

3. बल्बश क्या है?

उत्तर- साल्क केंद्र एक भूमिका तिरुपति जिसके द्वारा प्याज लहसुन लिली वर्गीकरण करते हैं क्योंकि पौधे पौधे में वर्गी जनन होते हैं|

4. सब ओरियल क्या है?

उत्तर- ऐसा रूपांतरित अद्भुत तनी होते हैं जो भूमि पर पूर्ण रुप से खरे ना होकर लेट कर रेंगते है यह निम्न प्रकार के होते हैं|

A. रनार ऊपरीभूसीरीका  - दूब खट्टी बूटी

B. अंता मुस्तारी  - पुदीना

C. मुस्तिका - स्ट्रॉबेरी 

मृतिका के बारे में अच्छी तरह से आप जान सकते हैं उसके बारे में जरूरी है इसलिए उससे याद करना है|

         - एक रूपांतरित तना जो जल में पाए जाते हैं जलकुंभी में पाया जाता है तीव्र गति से जनन करने के कारण जल को जलीय भूभाग में तुरंत चेक लेते हैं जिसे के कारण जल में पलने वाली मछलियों पर इसका विपरीत असर पड़ता है इसलिए जलकुंभी को बंगाल का शोक कहा जाता है                                                      आप सब समझ ने के लिए जलकुंभी के बारे में हम अच्छी तरह से बताएंगे जलकुंभी हाय कुंती उसके ही बारे में चुन्नू है|                        जलकुंभी हम सबके भाषा में पत्थर चूर के कुआं कहा जाता है यह जेल में ही पाए जाते हैं जिससे कि मछलियों को भी जल तक ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाते हैं इसलिए मछली को बहुत कठिनाई पढ़ती है जिससे कि मछलियों का मृत्यु भी हो जाती है|


अब यह टॉपिक बायोलॉजी का समाप्त हो चुका है|

हेलो दोस्तों तो हमें आशा है कि आप इस आर्टिकल से जन्म के बारे में और अमीबा के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर लिए होंगे यह दोस्तों अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आए तो आप शेयर करें कमट करें

अगर आपको समझ में ना आए तो कमेंट में आप हमें बता सकते हैं जी हां दोस्तों

                          धन्यवाद

Post a Comment

Previous Post Next Post

Contact Form