Physics varn vikshepan( वर्ण विक्षेपण क्या है पूरी जानकारी हिंदी में) 2022

हेलो दोस्तों स्वागत है आप सभी का फिर से हमारे इस पोस्ट में इस पोस्ट में हम आप सभी फिजिक्स के बारे में कुछ इंपोर्टेंट क्वेश्चन सब बताएंगे जहां दोस्तों जैसे कि वह काम क्या है वर्ण विक्षेपण क्या है इन सब के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में पाएं जियान दोस्तों

                   पूरी जानकारी हिंदी में

1. वर्ण कर्म क्या है?

उत्तर- जब वेद प्रकाश किसी प्लीज में से होकर गुजरती है तो सफेद पर्दे पर एक रंगीन धब्बा प्राप्त होता है इससे ही वर्ण कर्म कहा जाता है फ्रिज में से आप रत्नों के दौरान सफेद पर्दे पर प्राप्त रंगीन पट्टी को वर्ण कर्म का आ जाता है इसमें लाल रंग सबसे ऊपर जबकि बैगनी रंग सबसे नीचे होता है|



2. वर्ण विक्षेपण क्या है?

उत्तर- श्वेत प्रकाश का अपन अव्यवी वर्गों में विभक्त होने की घटनाओं को वर्ण विक्षेपण कहा जाता है|


Important  point 

A. लाल रंग का तरंग धैर्य लिम्डा सबसे अधिक होता है|मऔ

B. बैगनी का तरंग धैर्य सबसे कम होता है|

C. लाल रंग का अपवर्तनांक लिम्डा सबसे कम होता है|

D. बैगनी रंग का अपवर्तनांक सबसे अधिक होता है|

E. बैगनी रंग का विचलन अधिक होता है|


3. कोणिय विक्षेपण क्या है?

उत्तर- जब श्वेत प्रकाश किसी फ्रिज में से होकर गुजरती है तो उसके  सीमांत रंगों के विचलन कोणों के अंतर हो कोणिय विक्षेपण कहा जाता है|


3. विक्षेपण क्षमता क्या है?

उत्तर- किसी फ्रीज में के द्वारा उत्पन्न कोणिय विक्षेपण के द्वारा तथा माध्यमिक चलन के अनुपात को भी चेतन क्षमता कहा जाता है|

पीले रंग के विचलन को मां देवी चरण कहा जाता है क्योंकि पीले रंग का तरंग धैर्य प्रकाश के महादेव तरंग धैर्य की तुल्य होता है यह लगभग बराबर होता है|


4. प्रकाश का प्रकीर्णन क्या हाय ?

उत्तर- जब प्रकाश की किरण वायु के अनु प्रतीत होती है तो उसे अनु के द्वारा अवशोषित कर लिया जाता है यदि यह अनु इन विकर्ण क

 विभिन्न दिशा में उत्सर्जित करती है तो इसके लिए आवश्यक होती है कि अनु का आकार प्रकाश का तरंग धैर्य की तुलना में बहुत छोटा होता है|

हरि के नाम प्रकाश संस्था या पूर्णता निर्मित होता है पर गणित प्रकाश की तीव्रता कम होती है इस आधार पर रैली नायक वैज्ञानिक ने स्पष्ट किया कि प्रकृति प्रकाश की तीव्रता आपकी प्रकाश की तरंग धैर्य चतुर घाट विद कर मोनू पाती है यदि वक्रता आई हूं और तरंग धैर्य लेमडा हो|


5. आसमान का रंग नीला क्यों दिखता है?

कुत्ता- सूरज का प्रकाश पृथ्वी के वायुमंडल में लंबी दूरी तय करते हुए हम तक पहुंचती है इस दौरान यहां वायु के कौन से अन्योन क्रिया करता है जिससे कि सभी रंगों का प्रकीर्णन होता है नीले रंग का तरंग धैर्य लाल रंग की तरंग धैर्य से तुलना में छोटा होता है इसलिए प्रकृति हुए नीले रंग के प्रकाश की तीव्रता लाल रंग के प्रकाश की तीव्रता की तुलना में अधिक होता है यही कारण है कि आसमान का रंग नीला दिखता है|


6. और सुबह सूर्य लाल दिखता है| क्यों?

उत्तर- सूर्योदय और सूर्यास्त के समय प्रकाश की किरण पृथ्वी के वायुमंडल में लंबी दूरी तय करके हमारे नेत्र वायुमंडल में उपस्थित कानों के कारण प्रकाश का प्रकीर्णन होता है इस क्रिया के दौरान नीले रंग का प्रकीर्णन अधिक हो जाता है जिस कारण इसकी अनुपस्थिति हो जाती है और लाल रंग की अधिकता हो जाती है यही कारण है कि सूर्योदय और सूर्यास्त के समय सूर्य लाल दिखता है|


7. बादलों का रंग सामान्यता सफेद क्यों होता है|

उत्तर- बादलों में दूर कर और पानी की बूंदे उपस्थित होती है सूर्य से होने वाले प्रकाश का तरंग धैर्य की तुलना में इन कानों के आकार बड़ा होता है कानों का आकार बड़ा होने के कारण प्रकाश का प्रकीर्णन बहुत बहुत कम होता है पर कनित कम होने के कारण बादल को सभी रंग प्राप्त होता है यही कारण है कि समानता बादलों का रंग सफेद होता है|


8. सूर्योदय के समय सूर्य अंडाकार दिखता है |क्यों?

उत्तर - सूर्योदय के समय सूर्य से होने वाली किरणें पृथ्वी के वायुमंडल में विभिन्न परतों से गुजरती हुई आती है इन किसानों के वायुमंडल में आंसू और अपवर्तन होता है इससे कि सूर्य के अच्छी चीज व्यास छोटा और ऊर्ध्वाधर व्यास बड़ा प्रतीत होता है जिस कारण सूर्य अंडाकार दिखता है|


9. पृज्म क्या है?

उत्तर- किसी भी कौन पर झुके हुए कम से कम दो समतल पृष्ठों से गिरा हुआ समांगी पारदर्शक माध्यम को फ्रिज में करते हैं या फ्रिज में उनको पृष्ठ हो सकते हैं परंतु जिस पृष्ठ पर प्रकाश की किरण आप अतीत होती है और जिस पृष्ठ से निर्गत होती है वह दोनों पृष्ठ आपस में सामान्यतः नहीं होते हैं|


10. मृग मरीचिका क्या है?

उत्तर- रेगिस्तान में जलाते होने की दृष्टि भ्रम को मृग मरीचिका कहा जाता है|

        गर्मी के मौसम में पृथ्वी के ताप अधिक होता है जिस कारण वायु के परत का घनत्व तथा अपवर्तनांक दोनों ही घट जाता है जैसे जैसे हम पृथ्वी की सतह से ऊपर जाते हैं ताप कम होने लगता है ऐसे में वायु के पद का घनत्व तथा पर तनाव बढ़ने लगता है इस स्थिति में दूर स्थित वस्तु से प्रकाश की किरण जब पृथ्वी की सतह पर स्थित होती है तो आप तन कोण का मौन करो कि कौन से अधिक हो जाता है ऐसे में प्रकाश का पूर्ण आंतरिक परावर्तन होता है पूर्ण आंतरिक परावर्तन की स्थिति में परीक्षक के वस्तु के समीप उसका प्रतिबिंब दिखता है जोकि जला से होने का आभास कराता है|

तो आप सबको बीच में क्रांति कौन मिला होगा तो आप सब क्रांतिक कोण के बारे में जने क्या है? क्रांतिक कोण 

     

     - जिसके लिए अपवर्तन कोण का मान एक समकोण के बराबर हो उसे करो कि कौन कहा जाता है|


11. पूर्ण आंतरिक परावर्तन का सार्थ

A. प्रकाश की किरण सघन माध्यम से विरल माध्यम की ओर गतिमान हो

B. अब तक फोन का मौन करो कि कौन से अधिक हो


12. गोलए अपवर्तक सतह क्या है?

उत्तर- गोलियां अपवर्तक सत्ता एक ऐसा अपवर्तन सत्ता है जिसका अपवर्तक पृष्ठ किसी गोले का हिस्सा हूं यह निम्न प्रकार के हैं

A. अवतल गोलिए अपवर्तक सतह

B. उत्तल गोलीय अपवर्तक सतह 


12. लेंस क्या है?

उत्तर- दो गोलियां परत सताओ से गिरा ऐसा प्रदर्शक सत्ता जिससे किसी परंतु का वास्तविक था काल्पनिक प्रतिबिंब प्राप्त होता है लेंस का लाता है इसके प्रकार निम्न है|


A. समान उत्तल लेंस

B. द्वी उत्तल लेंस

C.सम उत्तल लेंस

D. अवतलोत्तल लेंस

E. सामान अवतल लेंस

F. द्वि उत्तल लेंस

G.सम अवतल लेंस 

 H. उत्लाअवतलो लेंस 


A. वह लेंस जिसके दोनों सतह उत्तल वह तथा वक्रता त्रिज्या एवं समान हो सामान उत्तल लेंस का लाता है|


B. वह लेंस जिसके दोनों सतह उत्तल हो परंतु वक्रता त्रिज्या आपस मैं समान द्वि उत्तल लेंस  कहलाता है|


 C. वह लेंश जिसके एक सत   समतल हो और दूसरे सतह उत्तल हो सम उत्तल लेंस का लाता है|


D. वह लेंस जिसका एक सतह अवतल हो और दुसरी सतह उत्तल  हो अवतलोउत्तल  कहलाता है|


E. वह लेंश जिसकी दोनो शतह अवतल हो सामान अवतल लेंस कहलाता है|


F. वह लेंस जिसके दोनों सतह अवतल हो और  वक्रता त्रिज्या है समान नहीं हो तो उसे द्वी अवतल लेंस कहा जाता है|


G.  वह लेंस  जिसका एक सतह समतल हो और दुसरी सतह  अवतल हो अवतलोत्तल  कहा जाता है|


H. वह लेंस  जिसका एक सतह उत्तल  हो और दूसरा सतह अवतल हो उत्तलाअवतल कहलाता है|



Post a Comment

Previous Post Next Post

Contact Form